बात कोई और होती तो हम

बात कोई और होती तो हम कह भी देते
कम्बखत मोहब्बत हे…बताया भी नहीं जाता…